parisar …………………………………………….परिसर

a forum of progressive students……………………………………………………………..प्रगतिशील छात्रों का मंच

सिमोन दा बोउवा

left
यह वर्ष प्रसिद्ध नारीवादी विचारक, लेखक और एक्टिविस्ट सिमोन द बोउवार का जन्मशती वर्ष है।उनका जन्म 9 जनवरी 1908 को पेरिस फ्रांस में हुआ।सिमोन ने दार्शनिक, राजनैतिक और अन्य सामाजिक विषयों पर कई पुस्तकें लिखी जिनमें ‘द सेकेंड सेक्स’ सबसे अधिक चर्चित रही।इस किताब में उन्होने स्त्री शरीर और मन के बारे में पितृसत्ता द्वारा बनाए गए तमाम मिथकों और पारंपरिक विश्वाशों को खुली चुनौती दी। उन्होने सिद्ध किया कि स्त्री पैदा नहीं होती वरन बना दी जाती है।उन्होने बताया की पुरुष प्रधान समाज में स्त्री के चरित्र व प्रकृति को जान बूझ कर एक रहस्य के आवरण में पेश किया जाता है। जिससे समाज में उसकी हैसियत एक ‘अन्या’ की बना दी जाती है। ‘द सेकेंड सेक्स’ का हिन्दी अनुवाद प्रभा खेतान ने ‘स्त्री उपेक्षिता’ शीर्षक से किया है। सिमोन जीवनपर्यंत स्त्रियों की मुक्ति व मानवजाति कि बेहतरी के लिए संघर्षरत रहीं। हम उनके जन्मशताब्दी वर्ष पर सभी छात्रों से उनकी रचनाओं का अध्ययन करने व उन पर विचार गोष्टियाँ आयोजित करने के अलावा विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम लेने का आह्वान करते हैं। हम आने वाली पोस्टों में उनकी इंटरनेट पर उपलब्ध कुछ रचनाओं का लिंक प्रेषित करेंगे।

February 8, 2008 - Posted by | articles, हिन्दी, Breaking with the old ideas

4 Comments »

  1. जब अपना ब्लॉग bakalamkhud.blogspot.com शुरु क्या था तब ब्लॉग जगत की सिमोन कहा गया था । अब एक साल बाद एक सामूहिक ब्लॉग sandoftheeye.blogspot.com -चोखेर बाली -नाम से शुरु किया है मैने । बहुत अच्छा लगेगा अगर आप वहाँ भी लिखें ।

    स्त्री पैदा नहीं होती वरन बना दी जाती
    इस विषय पर सिमोन के या आपके अपने विचार आप यहा प्रस्तुत कर सकते हैं । मुझे मेल कर सकते हैं -chokherbali78@gmail.com

    Comment by सुजाता | February 11, 2008

  2. आपका ब्लॉग अपने ब्लॉग रोल मे आल लिया है ।

    Comment by सुजाता | February 11, 2008

  3. सुजाता जी हमको ब्लोगरोल में जोड़ने के लिए शुक्रिया, हम भी आपके ब्लॉग बकलम ख़ुद और चोखेरबाली को अपने लिंक पेज में डालना चाहते हैं.क्या हम ऐसा कर सकते हैं?हम इस विषय पर अपने या सिमोन के विचारों पर कुछ लिखने की कोशिश करेंगे.

    Comment by parisar | February 11, 2008

  4. जी , बिल्कुल जोडिये । मुझे अच्छा लगेगा ।आप कुछ लिखें तो मुझे मेल कीजियेगा ।

    Comment by सुजाता | February 12, 2008


Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s